ABOUT US

header image

वैश्य का हिंदुओं की वर्ण व्यवस्था में तीसरा स्थान है। इस वर्ण के लोग मुख्यत: वाणिज्यिक व्यवसाय और कृषि करते हैं। हिंदुओं की जाति व्यवस्था के अंतर्गत वैश्य वर्णाश्रम का तीसरा महत्त्वपूर्ण स्तंभ है। इस वर्ग में मुख्य रूप से भारतीय समाज के किसान, पशुपालक, और व्यापारी समुदाय शामिल हैं। 'वैश्य' शब्द वैदिक 'विश्' से निकला है। अर्थ की दृष्टि से 'वैश्य' शब्द की उत्पत्ति संस्कृत से हुई है, जिसका मूल अर्थ "बसना" होता है। मनु के 'मनुस्मृति' के अनुसार वैश्यों की उत्पत्ति ब्रह्मा के उदर यानि पेट से हुई है। जबकि कुछ अन्य विचारों के अनुसार ब्रह्मा जी से पैदा होने वाले ब्राह्मण, विष्णु से पैदा होने वाले वैश्य, शंकर से पैदा होने वाले क्षत्रिय कहलाए; इसलिये आज भी ब्राह्मण अपनी माता सरस्वती, वैश्य लक्ष्मी, क्षत्रिय माँ दुर्गे की पूजा करते है।

about image

वेब पोर्टल के मुख्य उद्देश्य एवं लाभ

title two image

इस वेबसाइट को बनाने का हमारा मुख्य उद्देश्य समाज के बिखरे हुए सभी परिवारों को एकजुट करना है आज हम देख रहे हैं की समाज के सभी लोग चाहे वह किसी भी समुदाय से हों उनमे से ९०% लोग अपने समाज से ही जुड़े रहना चाहते हैं केवल एक वैश्य समाज ही ऐसा समुदाय है जो अपनी समाज के लोगो की नहीं बल्कि अन्य समाज के लोगो का साथ देना चाहता है इसलिय मेरा आपसे अनुरोध है की वैश्य समाज को एक नई दिशा मैं ले जाने का प्रयाश किया जाये और यह सब आप सभी लोगों के बिना संभव नहीं है इसलिए वैश्य समाज के इस वेब पोर्टल मैं अपना पंजीकरण करवा कर पोर्टल को सफल बनाये ! इस अखंडित एवं आस्थाई रूप से बिखरे हुए परिवारों को समाज से एक सूत्र मैं जोड़ने के लिए ! वैश्य समाज की उन सभी इकाईयों को हमारे संपर्क मैं लाने के लिए जो आज की व्यस्तता मैं कही धूमिल हैं ! उन सभी शंकाओं के निवारण के लिए जो कहीं न कहीं हर किसी के मन मैं समाज के प्रति स्थापित हैं !

कैसे होगा

title two image

हम कैसे एक ऐसी सीमा रेखा खींचे जिसके अन्दर हम अपने समाज के लगभग हर परिवार की संभावित सूचना को गठित कर सकें ? इतने बड़े देश मैं ये कैसे संभव होगा की हम उन सभी वैश्य समाज के परिवारों तक पहुँच सकें जो यहाँ वहां बिखरे हैं ?

संभव है और माध्यम है ----- वेब अनुप्रयोग (इन्टरनेट) वेब अनुप्रयोग योजना के उद्देश्य-

title two image

इन्टरनेट आधुनिक व्यवसाय के लिए एक धुरी है जिस पर आधारित हमारी योजना का मुख्य उद्देश्य वैश्य समाज के उन सभी लोगों की जानकारी रखने और क्षेत्र मैं सूचना को लागू करने से मिलते जुलते कारोबार की सुविधा प्रदान करना है ! वैश्य समाज की सदस्यता लेने और वैवाहिक उद्देश्य के लिए एक ही मंच का उपयोग करना है!

Become City Admin
Name
Email
Phone
City

OUR SPECIALITY

header image

इन्टरनेट आधुनिक व्यवसाय के लिए एक धुरी है जिस पर आधारित हमारी योजना का मुख्य उद्देश्य वैश्य समाज के उन सभी लोगों की जानकारी रखने और क्षेत्र मैं सूचना को लागू करने से मिलते जुलते कारोबार की सुविधा प्रदान करना है !

service images

Service Specility One

title two image

It is a long established fact that a reader will be distracted by the readable content

service images

Service Specificity Two

title two image

It is a long established fact that a reader will be distracted by the readable content

service images

Service Specificity Three

title two image

It is a long established fact that a reader will be distracted by the readable content

service images

Service Specificity Four

title two image

It is a long established fact that a reader will be distracted by the readable content

service images

Service Specificity Five

title two image

It is a long established fact that a reader will be distracted by the readable content

service images

Service Specificity Six

title two image

It is a long established fact that a reader will be distracted by the readable content

ADVERTISEMENT

header image

इन्टरनेट आधुनिक व्यवसाय के लिए एक धुरी है जिस पर आधारित हमारी योजना का मुख्य उद्देश्य वैश्य समाज के उन सभी लोगों की जानकारी रखने और क्षेत्र मैं सूचना को लागू करने से मिलते जुलते कारोबार की सुविधा प्रदान करना है !

Wedding Planner

counter title image

Team Member

counter title image

Years of Experience

counter title image

Clients Served

counter title image

SUCCESS STORIES

header image

इन्टरनेट आधुनिक व्यवसाय के लिए एक धुरी है जिस पर आधारित हमारी योजना का मुख्य उद्देश्य वैश्य समाज के उन सभी लोगों की जानकारी रखने और क्षेत्र मैं सूचना को लागू करने से मिलते जुलते कारोबार की सुविधा प्रदान करना है !

NEWS & EVENTS

header image

विश्व के पालन का भार श्री विष्णु को विश्व रचना का भार श्री ब्रह्मा जी को तथा संहार का भार श्री शिव जी को सौपा गया। आज विश्व की अधिकांश प्रजातियाँ कश्यप मुनि की सन्ताने हैं। वैश्य समाज भी महर्षि कष्यप ऋषि की सन्तान है अतः हम लोग अपने को कष्यप गोत्र में पैदा होना मानते हैं।

Amrit Dhara

Amrit Dhara

By: Admin  

सुप्रभात

सुप्रभात

By: Admin  

News Article number two

News Article number two

By: Admin  

NEW DELHI: A conman who allegedly duped women with fake profiles on matrimonial sites has been arrested

Man conned many women on matrimony

Man conned many women on matrimony

By: Admin  

NEW DELHI: A conman who allegedly duped women with fake profiles on matrimonial sites has been arrested

www.abdvaishyasamaj.org

header image

Contact Information

header image

VAISHYA ADVERTISEMENT SERVICES, BRAHMANAND BHAWAN,PADAW ,RATH DISTT. HAMIRPUR U.P. 210431 (MR.BADRI GUPTA & BHARAT GUPTA)
Contact: +916388700072,9838819500,9450834520
Email :admin@abdvaishyasamaj.org
Timings :8:00:00 AM To 8:00:00 PM